O. Disaster Management in Jharkhand / झारखंड में आपदा प्रबंधन | FREE GS2 Book Notes sample

1. Disaster 

  • Accidents that occur suddenly and cause widespread loss of life and property are called Disasters.

  • Disaster refers to any calamity, accident, or serious incident due to natural or anthropogenic causes, which causes widespread harm.

  • Natural Disasters examples are earthquakes, tsunamis, volcanic eruptions, cyclones, storms etc. 

  • Anthropogenic disasters examples are wars, deforestation, ecological imbalance, pollution, etc. 

  • Disasters due to human reasons arise from negligence or failure of proper systems. Man-made disasters are called Technical or Social disasters.

  • Disasters impede progress and destroy development related works. Therefore, more emphasis is being given towards their………….

 

1. झारखंड में आपदा

  • ऐसी दुर्घटनाएँ, जो अचानक घटित हों और जिनसे जान-माल की व्यापक हानि हो उसे आपदा कहते हैं.
  • आपदा का तात्पर्य प्राकृतिक अथवा मानवजन्य कारणों से आने वाली किसी ऐसी विपत्ति, दुर्घटना, अनिष्ट और गंभीर घटना से है, जो प्रभावित समुदाय को व्यापक हानि पहुँचाती है.
  • प्राकृतिक आपदाओं में भूकंप, सुनामी, ज्वालामुखी विस्फोट, चक्रवात, आँधी तूफान आदि प्रमुख हैं.जबकि मानवजनित आपदाओं में युद्ध, वनों की कटाई, पारिस्थितिकी असंतुलन, प्रदूषण आदि प्रमुख हैं. मानवीय कारणों से निमित्त आपदा लापरवाही, मूल या व्यवस्था की असफलता से उत्पन्न होती हैं.
  • मानव निर्मित आपदा को तकनीकी या सामाजिक आपदा भी कहते हैं.
  • आपदाएँ प्रगति में बाधा डालती हैं एवं विकास संबंधी कार्यों को नष्ट करती हैं. इसलिए आपदाओं के घटित होने पर ही कार्रवाई करने के बजाय उनके कुशल प्रबंधन की ओर अधिक बल दिया जा रहा है.
  • भारत एवं झारखंड राज्य में अलग-अलग तीव्रता वाली अनेक प्राकृतिक और मानवजन्य आपदाएँ आती रहती हैं. भारत में लगभग 58.6 प्रतिशत भू-भाग सामान्य से लेकर अधिक तीव्रता वाला भूकंप संभावित क्षेत्र है. 12 प्रतिशत भू-भाग (40 मिलियन हेक्टेयर) बाढ़ प्रभावित तथा 7,516 किलोमीटर क्षेत्र में से लगभग 5,700 किलोमीटर क्षेत्र चक्रवात एवं